Mohabbat Shayari | Mohabbat Shayari in Hindi | Mohabbat Shayari Best Collection | Mohabbat Shayari 2 Line

Mohabbat Shayari – कभी कभी हमें यह दिखाना होता है कि हम अपने girlfriend या boyfriend कितनी फिकर करते हैं Mohabbat Shayari in Hindi कितनी परवाह करते हैं इसके लिए हमें उन्हें ये महसूस करना बहुत जरुरी है जिसके लिए shayari सबसे अच्छा तरीका है

पर अगर आप ये जानना चाहते है की वो आप अपने इस रिश्ते को और भी मजबूत कैसे बना सकते है Mohabbat Shayari तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़े मैंने ऐसे 4 तरीके बताये है जो सच्चा प्यार जानने और मजबूत बनाने के सबसे अच्छे तरीके है या आप निचे जाकर शायरी पढ़ या डाउनलोड कर सकते है Mohabbat Shayari 2 Line

Mohabbat Shayari, Mohabbat Shayari in Hindi, Mohabbat Shayari Best Collection, Mohabbat Shayari 2 Line

Mohabbat Shayari

Mohabbat Shayari, Mohabbat Shayari in Hindi, Mohabbat Shayari Best Collection, Mohabbat Shayari 2 Line
Mohabbat Shayari, Mohabbat Shayari in Hindi, Mohabbat Shayari Best Collection, Mohabbat Shayari 2 Line

kisee ke pyaar ko pa lena hee,
mohabbat nahin hotee hai,
kisee ke door rahane par usako,
pal pal yaad karana bhee mohabbat hotee hai.

किसी के प्यार को पा लेना ही,
मोहब्बत नहीं होती है,
किसी के दूर रहने पर उसको ,
पल पल याद करना भी मोहब्बत होती है।

Mohabbat Shayari in Hindi

उतर जाते है दिल मे कुछ लोग इस कदर
उनको निकालो तो जान निकल जाती है

Utar Jaate Hai Dil Me Kuchh Log Es Kadar
Unako Nikaalo To Jaan Nikal Jaati Hai

agar hamane tumhe na dekha hota to,
shaayad ye raaz hee rah jaata,
ki mohabbat kaisee hotee hai

अगर हमने तुम्हे न देखा होता तो,
शायद ये राज़ ही रह जाता,
कि मोहब्बत कैसी होती है।

kamaal kee mohabbat thee,
mujhase usako achaanak hee,
shuroo huee aur bina bataaye hee khatm ho gaee.

कमाल की मोहब्बत थी,
मुझसे उसको अचानक ही,
शुरू हुई और बिना बताये ही खत्म हो गई

Mohabbat Shayari, Mohabbat Shayari in Hindi, Mohabbat Shayari Best Collection, Mohabbat Shayari 2 Line
Mohabbat Shayari, Mohabbat Shayari in Hindi, Mohabbat Shayari Best Collection, Mohabbat Shayari 2 Line

tumhen kitanee mohabbat hai maaloom nahin,
mujhe log aaj bhee teree kasam de kar mana lete hai.

तुम्हें कितनी मोहब्बत है मालूम नहीं,
मुझे लोग आज भी तेरी कसम दे कर मना लेते है।

kya pata tha ki mohabbat hee ho jaayegee,
hamen to bas tera muskuraana achchha laga tha !

क्या पता था कि मोहब्बत ही हो जायेगी,
हमें तो बस तेरा मुस्कुराना अच्छा लगा था !

कोई मुक़दमा ही कर दो हमारे सनम पर,
कम से कम हर पेशी पर दीदार तो हो जायेगा।

koi muqadama hi kar do hamaare sanam par,
kam se kam har peshi par deedaar to ho jaayega.

गज़ब की बेरुख़ी छाई हे तेरे जाने के बाद,
अब तो सेल्फ़ी लेते वक़्त भी मुस्कुरा नही पाते।

gazab ki berukhi chaai he tere jaane ke baad,
ab to selfie lete vaqt bhi muskura nahi paate.

Mohabbat Shayari Best Collection

Mohabbat Shayari, Mohabbat Shayari in Hindi, Mohabbat Shayari Best Collection, Mohabbat Shayari 2 Line
Mohabbat Shayari, Mohabbat Shayari in Hindi, Mohabbat Shayari Best Collection, Mohabbat Shayari 2 Line

बहुत थे मेरे भी इस दुनिया मेँ अपने,
फिर हुआ इश्क और हम लावारिस हो गए।

bahut the mere bhi iss duniya men apane,
Fir hua ishq aur ham laavaaris ho gae.

मैंने तो देखा था बस एक नजर के खातिर
क्या खबर थी की रग रग में समां जाओगे तुम।

maine to dekha tha bas ek najar ke khaatir,
kya khabar thi ki rag rag mein samaa jaoge tum.

प्यार करने वालों की किस्मत बुरी होती है
हर मिलन जुदाई से होती है
रिस्तो को कभी परख कर देखना
दोस्ती हर रिश्ते से बड़ी होती है।

pyaar karne vaalo ki kismat buri hoti hai,
har milan judai se hoti hai, risto ko kabhi parakh
kar dekhana dosti har rishte se badi hoti hai.

मोहब्बत उस शक्स से नही होती
जिसके साथ रहा जाए,
मोहब्बत तो उससे होती है जिसके
बिना रहा न जाए।

Mohabbat Shayari 2 Line

mohabbat us shaks se nahi hoti jisake saath raha jaae,
mohabbat to usase hoti hai jisake
bina raha na jaae.

देखा फिर तो रात याद आ गयी,
गुड़ नाईट कहेने की बात याद आ गयी,
हम बैठे थे सितारों कि पनाह में,
जब चाँद को देखा तो आप कि याद आ गयी।

dekha Fir to raat yaad aa gayi, good night kahne
ki baat yaad aa gayi, ham baithe the sitaaro ki panaah mein,
jab chaand ko dekha to aap ki yaad aa gayi.

प्यार मै कोइ तो दील तोड देता है
दोस्ती मेँ कोइ तो भरोसा तोड देता है
जीन्दगी जीना तो कोइ गुलाब से सीखे
जो खुद टुट कर दो दीलो को जोड देता हैँ।

pyaar me koi to dil tod deta hai, dosti me koi to bharosa tod deta hai,
jeendagi jeena to koi gulaab se seekhe jo khud tut kar do dilo ko jod deta hai.

कमाल की मोहब्बत थी उसको हम से,
अचानक ही शुरू हुई और बिन बतायें ही ख़त्म…..

Kanaal Ki Mohabbat Thi Usako Hamse,
Achanak Shuru Huyi, Aur Bin Bataye Khaym….

जाने कब उतरेगा कर्ज उसकी मोहब्बत का
हर रोज आँसुओं से इश्क की किस्ते भरता हूँ

Naa Jane Kab Utarega Karz Usaki Mohabbat Ka,
Har Roz Anshuon Se Ishk Ki Kiste Bharata Hu…

Mohabbat Shayari

Mohabbat Shayari, Mohabbat Shayari in Hindi, Mohabbat Shayari Best Collection, Mohabbat Shayari 2 Line
Mohabbat Shayari, Mohabbat Shayari in Hindi, Mohabbat Shayari Best Collection, Mohabbat Shayari 2 LineMohabbat Shayari, Mohabbat Shayari in Hindi, Mohabbat Shayari Best Collection, Mohabbat Shayari 2 Line

ना पेशी होगी.. ना गवाह होगा,
जो भी उलझेगा मोहब्बत से वो सिर्फ तबाह होगा…

Naa Peshi Hogi Naa Gawah Hoga,
Jo Ulajhega Mohabbat Se Wo Sirf Tabah Hoga…

फिक्र ना करो कोई जंजीर नही है के पाव से लिपट जायेगे,
हम तो मोहब्बत है राख बन के तेरी राहो मै बिखर जायगे…

Fikr Naa Karo Koi Zanjir Nahi Hain Ke Panv Se Lipat Jayenge,
Ham To Mohabbat Hain Rakh Ban Kar Teri Rahon Me Bikhar Jayenge…

मेरी मोहब्बत का अंदाजा, मत लगाना मेरी जान,
हिसाब मैं लूंगी नहीं,
और चुकता तुम कर नहीं पाओगे…

Meri Mohabbat Ka Andaza Mat Lagana Meri Jaan,
Hisab Mai Lungi Nahi,
Aur Chukata Tum Kar Nahi Paoge…

याद रखते हैं हम आज भी उन्हें पहले की तरह,
कौन कहता है फासले मोहब्बत की याद मिटा देते हैं…

Yaad Rakhate Hai Ham Aaj Bhi Unhe Pahale Ki Tarah,
Kaun Kahata Hain Faasale Mohabbat Ki Yaad Mita Deti Hain…

छुपे छुपे से रहते हैं सरेआम नहीं हुआ करते, कुछ रिश्ते बस एहसास होते हैं उनके नाम नहीं हुआ करते..

ना हीरों की तमन्ना है और ना परियों पे मरता हूँ.. वो एक “भोली” सी लडकी हे जिसे मैं मोहब्बत करता हूँ !!

हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की, और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवाने की, शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुदा से है, क्या ज़रूरत थी, तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की !!

एक वो हैं, जो हमारी बात समझते नहीं…और यहाँ जमाना हमारे स्टेटस पढ़कर, दीवाना हुआ जा रहा है.

अगर यूँ ही कमियाँ निकालते रहे आप … तो एक दिन सिर्फ खूबियाँ रह जाएँगी मुझमें….

मिलने का दौर और बढ़ाइए मोहब्बत में … अब यादों से गुज़ारा नहीं होता।

अच्छा लगता है तुम्हारे लफ्जों में खुद को ढूँढना ….इतराती हूँ , मुस्कुराती हूँ और तुममें ढल सी जाती हूँ..

zarooree nahin jo khushee de,
usee se mohabbat ho,
pyaar to aksar dil todane,
vaale se ho jaata hai.

ज़रूरी नहीं जो खुशी दे,
उसी से मोहब्बत हो,
प्यार तो अक्सर दिल तोड़ने,
वाले से हो जाता है।

Mohabbat Shayari, Mohabbat Shayari in Hindi, Mohabbat Shayari Best Collection, Mohabbat Shayari 2 Line
Mohabbat Shayari, Mohabbat Shayari in Hindi, Mohabbat Shayari Best Collection, Mohabbat Shayari 2 Line

mainne seekhe hain mohabbat se mohabbat ke usool,
kitana mushkil hai kisee apane,
ko apana banaen rakhana.

मैंने सीखे हैं मोहब्बत से मोहब्बत के उसूल,
कितना मुश्किल है किसी अपने,
को अपना बनाएं रखना।

hamaaree mohabbat se to ye duniya bhee vaakiph hai,
na hamane manjila badalee na hamane yaar badala.

हमारी मोहब्बत से तो ये दुनिया भी वाकिफ है,
न हमने मंजिला बदली न हमने यार बदला।

Mohabbat Shayari in Hindi

zindagee to hamaaree bhee shaanadaar thee , magar,
mohabbat naam kee cheez beech mein aa gaee.

ज़िन्दगी तो हमारी भी शानदार थी मगर,
मोहब्बत नाम की चीज़ बीच में आ गई।

bas yahee soch kar toojh se mohabbat karata hun,
mera to koee nahin magar tera to koee ho.

बस यही सोच कर तूझ से मोहब्बत करता हुँ,
Mera तो कोई नहीं मगर Tera तो कोई हो।

Mohabbat Shayari 2 Line

Hamen puri ummid hai ki aapka hamari mohabbat wali shayari pasand aaye hogi.

Agar aapko hamari shayari on Mohabbat pasand aaya hai to comment box mein jarur bataen.

Aur jis se Mohabbat hai use bhi hamari shayari jarur share karen.

छोटा सा एक पल ज़िन्दगी का हिस्सा बन जाता है,
न जाने कब कौन राहो का हिस्सा बन जाता है,
कुछ लोग Life में मिलते हैं ऐसे,
जिनके साथ कभी ना टूटने वाला
एक अटूट रिश्ता बन जाता है.

बिना आहट के इन आँखों से दिल में उतरते हो तुम
वाह सनम क्या लाजवाब इश्क करते हो तुम

mohabbat meñ nahīñ hai farq jiine aur marne kā
usī ko dekh kar jiite haiñ jis kāfir pe dam nikle

aziiz itnā hī rakkho ki jī sambhal jaa.e
ab is qadar bhī na chāho ki dam nikal jaa.e

ishq nāzuk-mizāj hai behad
aql kā bojh uThā nahīñ saktā

Leave a Comment