Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi

Taklif Shayari | Takleef Shayari

Taklif Shayari: बेहतरीन और चुनिंदा शायरी का संग्रह जो की तकलीफ शब्द को बहुत ही शानदार तरीके से वर्णित करता है !! Takleef Shayari यहाँ आप हर तरह की शायरी को पढ़ सकते है और अपने चाहने वालो को शेयर कर सकते है

2 Line Takleef Shayari – Share the famous Takleef Shayari collection on FeelTheWords. Enjoy our Takleef Shayari in hindi on the web, Facebook and blogs.

तकलीफ शायरी का सबसे अच्छा संग्रह यहाँ उपलब्ध है, Taklif Wali Shayari आप इस तकलीफ शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन तकलीफ हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। तकलीफ पर हिंदी के यह शेर, आपके प्यार और भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं !!

के पोस्ट में आपको मिलेगा Takleef Shayari In Hindi, Takleef Shayari 2 Line, Takleef Status In Hindi, Takleef Status 2 Line के बेजोड़ कलेक्शन को, जहा पर आप शेरो-शायरियों के और भी मजे ले पाएंगे.

तकलीफ शायरी | तकलीफ स्टेटस | तकलीफ शायरी इन हिन्दी | तकलीफ शायरी हिंदी में | तकलीफ की शायरी | 2 लाइन तकलीफ शायरी | तकलीफ कोट्स | तकलीफ कोट्स हिंदी में | तकलीफ स्टेटस हिंदी में | 2 लाइन तकलीफ स्टेटस हिंदी में

Taklif Shayari

Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi | Takleef Dene Wali Shayari
Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi | Takleef Dene Wali Shayari

अपने वो नही होते जो तस्वीर में साथ खड़े होते हैं,
अपने वो हैं जो तकलीफ में साथ खड़े होते…

डूबता सूरज ढलता दिन
क्यूँ इस कदर कचौटता हैं यह मुझे
शायद तकलीफ करता हैं बयाँ
फिर बिता एक दिन…

थे धुप से परेशान और अब तकलीफ है बारिश से,
शिकायतें बेशुमार है इन्सान की आदत में !!

यूँ चेहरे पर उदासी ना ओढिये साहब…
वक़्त ज़रूर तकलीफ का है लेकिन कटेगा मुस्कुराने से ही…!!

चेहरा देख कर इंसान पेहचानने की कला थी मुझमे…
तकलीफ तो तब हुयी जव
इंसानो के पास चेहरे बहुत थे…

ईश्वर कहते है…
किसी को तकलीफ़ देकर मुझसे
लेकिन…
अगर किसी को एक पल की भी
ख़ुशी देते हो तो अपनी तकलीफ़
की फ़िक्र मत करना….

Also Read:

Taklif Wali Shayari

Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi | Takleef Dene Wali Shayari
Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi | Takleef Dene Wali Shayari

aap ji ke saath jitna makhlus honge
wo aap ko itna hi zor daar thappadh maare ga
ke aap ki mukhlasi bhi hairaan rah jaye gi

आप जी के साथ जितना मख्लुस होंगे
वो आप को इतना हो जोर दार थप्पड़ मारे गा
के आप की मख्लुसी भी हैरान रह जाये गी

ghar ki is baar mukammal mein talashi lungga
gum chupa kar mere maa baap kahan rakhte the

घर की इस बार मुकम्मल में तसशी लूंगा गा
गम छुपा कर मेरे माँ बाप कहाँ रखते थे

kabhi kabhi to ghutan itni bad jaati hai ke
dil chahta hai kisi aysi jagha ja kar saans liya jaye
jahan kisi insaan ka naam wo nisaah na ho

कभी कभी तो घुटन इतनी बड जाती है के
दिल चाहता है किसी ऐसी जगह का कर सांस लिया जाये
जहाँ किसी इंसान का नाम वो निशा ना हो

faraz jab bhi hamari taarikh likhen
to alfaaz jaye na karna
bus itna likh de ghar jal raha tha
aur log kaafir kaafir khel rahe the

फ़राज़ जब भी हमारी तारीख लिखें
तो अलफ़ाज़ जाये ना करना
बस इतना लिख दे घर जल रहा था
और लोग काफ़िर काफिर खेल रहे थे

Also Read:

Takleef Shayari

Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi | Takleef Dene Wali Shayari
Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi | Takleef Dene Wali Shayari

neend aur amut mein kiya fark hai
kisi ne kiya khub jawab diya hai
neend aaghi maut hai
aur maut mukammal neend hai

नींद और मौत में किया फर्क है
किसी ने किया खूब जवाब दिया है
नींद आधी मौत है
और मौत मुकम्मल नींद है

khud pe biti to rote kyun ho sisak ke
wo jo humne kiya tha kiya wo ishq nahi tha
खुद पे बीती तो रीते क्यू हो सिसक के
वो जो हमने किया था किया वो इश्क नहीं था

तुझसे अच्छे तो जख्म हैं मेरे ।
उतनी ही तकलीफ देते हैं जितनी बर्दास्त कर सकूँ ।।
Read full Shayari

पहले उनकी बेरुखी से तकलीफ होती थी अब नहीं होती क्यूंकि अब आदत हो चुकी है।

दर्द छुपकर सीने में, बड़ी तकलीफ होती है जीने में।

दर्द छुपा कर दो पल मुस्कुरा क्या देते हैं, लोग कहने लगते हैं हम बड़े मज़े में रहते हैं।

जलना तो होगा तकलीफ की आग से इश्क़ में यूँ ही नहीं इसे आग का दरिया कहाँ जाता है।

खुश थे हमे वो तकलीफ दे कर, हम तकलीफ में भी खुश थे उन्हें खुश देख कर।

आदत बना ली अपने आप को तकलीफ देने की मैंने ताकि जब कोई अपना तकलीफ दे तो ज्यादा तकलीफ ना हो।

सुर्खियों में है हमारी कामयाबी के चर्चे जनाब,

कोई हमसे तो पूछे कि सफ़र कितना तकलीफ देह रहा.
Surkhiyo Me Hai Hamari Kamyabi Ke Charche Janaab,

koi Hamse To Puche ki Safar Kitna Takleef De Raha.

तकलीफ होती है, जब तुम्हारे दिल का सबसे क़रीबी तुमसे दूरी बना ले.
Takleef Hoti Hai, Jab Tumhare Dil Ka Sabase Karibi Tumse Duri Bana Le.

तकलीफ़ मिट गई, मगर एहसास रह गया,

ख़ुश हूँ कि कुछ न कुछ तो, मेरे पास रह गया.
Takleef Mit Gayi Magar Ehsaas Rah Gaya,

Khush Hu Ki Kuch Na Kuch To Mere Paas Rah Gaya.

इस दुनिया मेँ अजनबी रहना ही ठीक है, लोग बहुत तकलीफ देते है, अक्सर अपना बना कर.
Is Duniya Me Ajnabi Rahna Hi Thik Hai, log Bahut Takleef Dete Hai, Aksar Apana Bana Kar.

उसको चाहा तो मोहब्बत की तकलीफ नजर आई, वरना इस मोहब्बत की बस तारीफ़ सुना करते थे.
Usako Chaha To Mohabbat Ki Takleef Najar Aayi, Varna Is Mohabbat Ki Bas Tarif Suna Karte The.

चेहरे अजनबी हो जाये तो कोई बात नहीं, मोहब्बत अजनबी होकर बड़ी तकलीफ देती है.
Chehare Ajnabi Ho Jaye To Koi Baat Nahi, Mohabbat Ajnabi Hokar Badi Takleef Deti Hai.

Also Read:

Taklif Shayari in Hindi

Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi | Takleef Dene Wali Shayari
Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi | Takleef Dene Wali Shayari

Chal TujhKo Dikha Dun Main
Apne Dil Ki Veeran Galiyan,
Shayad TujhKo Taras Aa Jaye
Meri Udaas Zindagi Par.

चल तुझको दिखा दूँ मैं
अपने दिल की वीरान गलियाँ,
शायद तुझको तरस आ जाये
मेरी उदास जिंदगी पर।

Khuda Ne Likha Hi Nahi Tujhko
Meri Kismat Mein Shayad,
Varna Khoya Toh Bahut Kuchh Tha
Tujhe Paane Ke Liye.

खुदा ने लिखा ही नहीं तुझको
मेरी किस्मत में शायद,
वरना खोया तो बहुत कुछ था
एक तुझे पाने के लिए।

Ek Sawaal Chhipa Hai Dil Ke Kisi Kone Mein,
Ke Kya Kami Rah Gayi Thi Tera Hone Mein.

एक सवाल छिपा है दिल के किसी कोने में,
कि क्या कमी रह गई थी तेरा होने में।

Khuda Ki Itni Badi Kaynaat Mein Maine,
Bas Ek Shakhs Ko Maanga Mujhe Wahi Na Mila.

खुदा की इतनी बड़ी कायनात में मैंने,
बस एक शख्स को मांगा मुझे वही ना मिला।

Unse Iss Kamaal Se Kheli Ishq Ki Baazi,
Main Apni Fatah Samjhta Raha Maat Hone Tak.

उसने इस कमाल से खेली इश्क़ की बाज़ी,
मैं अपनी फतह समझता रहा मात होने तक।

Ek Aisi Bhi Ghadi Ishq Mein Aayi Thi Hum Tak,
Khaak Ko Haath Lagaate Toh Siatara Karte.

एक ऐसी भी घड़ी इश्क में आयी थी हम तक,
खाक को हाथ लगाते तो सितारा करते।

Also Read:

Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi | Takleef Dene Wali Shayari
Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi | Takleef Dene Wali Shayari

Roj Kehta Hun Na Jaaunga Kabhi Ghar Uske,
Roj UsKe Kuche Mein Koi Kaam Nikal Aata Hai.

रोज कहता हूँ न जाऊँगा कभी घर उसके,
रोज उस के कूचे में कोई काम निकल आता है।

क्यों महसूस नहीं होतीउसे मेरी तकलीफ
जो कहती थी अच्छे से जानती हूँ तुम्हें

Kyon mahsus nahin hoti use meri takleef
Jo kahti thi achche se jaanti hun tumhen

jina chaha to zindagi se dur the hum,

marna chaha to jine ko mazbur the hum,

sar jhuka kar kabul kar li har saza,

bas kashur itna tha ki bekashur the hum.

जीना चाहा तो ज़िन्दगी से दूर थे हम,

मरना चाहा तो जीने को मजबूर थे हम,

सर झुका कर कबुल कर ली हर सजा,

बस कसूर इतना था की बेकसूर थे हम.

ishq do zindagi ka aafsana hai,

ishq ka aapna hi yek tayana hai,

pata hai sab ko milenge sirf, aashu,

par na jane duniya me har koi

kyo ishq ka hi divana hain.

Takleef Shayari

Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi | Takleef Dene Wali Shayari
Taklif Shayari | Taklif Wali Shayari | Takleef Shayari | Taklif Shayari in Hindi | Takleef Dene Wali Shayari

इश्क दो ज़िन्दगी का आफ्साना है,

इश्क का आपना ही एक त्याना है,

पता है सब को मिलेंगे सिर्फ, आशु

पर न जाने दुनिया में हर कोई

क्यों इश्क का ही दीवाना हैं.

ठोकर खाते हैं और मुस्कराते हैं,

इस दिल को सबर करना सिखाते है

हम तो दर्द लेकर भी लोगों को याद करते हैं,

और लोग दर्द देकर भी भूल जाते है।।

Dil Me Dard Hota Hai

Har Lafz Me Matlab Hota Hai,

Har Matlab Me Farak Hota Hai,

Sab Kehte Hai Ke Hum Haste Bahut Hai,

Lekin Hasne Walon Ke Dil Me Hi Dard Hota Hai..!

हर लफ्ज़ में मतलब होता है,

हर मतलब में फरक होता है,

सब कहते है की हम हस्ते बहुत है,

है लेकिन हसने वालों के दिल में ही दर्द होता है ।।

Takleef Shayari

Friends i will everyday update latest status in my site like-whatsapp status🌸sad status, love status”🌸 emotional Status🌸shayari🌸,heart touching Status,🌸girlfriend boyfriend love status🌸,festival status🌸,valentine day status🌸,rose day status🌸, sorry status,🌸miss you status”🌸 “bollywood status,🌸lyrics status” friends Or status daily will keep getting good HD wallpaper In all the lyrics, you should visit www.shayarishare.com every day! do follow. Sad Status for WhatsApp 2021 | Sad Status | 2 Line Sad Status In Hindi

Leave a Comment